अरुणा ताई, यह नाम आज शहर में किसी परिचय का मोहताज नहीं था। वह आज इतनी बड़ी राजनैतिक दल की फायरब्रांड लीडर कहलाती थी। वैसे उन्हे फायरमाऊथ कहना ज़्यादा उचित लगता। ज़ाहिर है उनकी ज़बान आग उगलती थी। और यही आग बढ़कर लोगों के दिलों में पहुंचती। और लोग इससे चार्ज हो जाते। नौजवान इनसे खास प्रभावित रहा करते। लेकि...

शिकारी के नाम से कुख्यात पुलिस अधिकारी, ए एस पी पांडे की अनुभवी आंखें गाड़ी से बाहर सड़क के दोनों ओर का निरीक्षण करने में व्यस्त थी। साथ मे उनका चहेता, उनका खास चेला इब्राहीम एक अच्छे शिष्य की तरह उनका अनुसरण कर रहा था। वह पांडे सर जैसा ही बनना चाहता था। पांडे सर उसका आदर्श थे। और पांडे सर भी उसे अपने...

घर के सामने से गुजरते हुए उसने एक बार इस तरफ देखा और मुझे अपनी ओर देखता पाकर, झेंपकर सिर झुका लिया.

"शर्मा गई." मैं हौले से मुस्कुरा उठा.

एकाएक मैं सिहर उठा. लगा जैसे अब्बू ने मेरी हरकत देख ली है. बरामदे में सामने पड़ी आराम कुर्सी पर बैठे लाल लाल आंखों से मुझे घूरने रहे हैं. अक्सर ऐसा होता है; मुझे लग...

रात का आखरी पहर बीत चला था । पौ फटने को है; लेकिन नज़र कुछ आता नहीं । धुंध इतनी ज्यादा है । और ठंड ? पूछो मत । मुख्य सड़क के किनारे के पेड़ और पत्थर भी मुश्किल से परछाई जैसे नज़र आते है । बस एक पुलिस की गाड़ी है जो सड़क पर धीरे धीरे रेंग रही है ।

"क्या मजबूरी है ।" वह बड़बड़ाता है, "कहाँ आ फसा हूँ । पता नहीं...

Please reload

eKalpana literary magazine

​​Contact & Social Media -

ekalpanasubmit@gmail.com

सभी रचनाएं
ekalpanasubmit@gmail.com पर भेजें
Please reload

Please reload

... ON BORROWING a BOOK VS BUYING IT

""When you buy it, you are promoting the literature of your country.""

ई-मेल में सूचनाएं, पत्रिका व कहानी पाने के लिये सब्स्क्राइब करें (यह निःशुल्क है)