... ON BORROWING a BOOK VS BUYING IT

""When you buy it, you are promoting the literature of your country.""

ई-मेल में सूचनाएं, पत्रिका व कहानी पाने के लिये सब्स्क्राइब करें (यह निःशुल्क है)

वरिष्ठ कथाकार सुदर्शन वशिष्ठ को हिमाचल कला संस्कृति भाषा अकादमी द्वारा ‘‘शिखर सम्मान-2016’’ प्रदान किया गया है। यह सम्मान वशिष्ठ को साहित्य के क्षेत्र में आजीवन उत्कृष्ट योगदान के लिए दिया गया है।

    28 मार्च को स्थानीय हॉलीडे होम सभागार में एक गरिमापूर्ण और शालीन समारोह में प्रदेश के मुख्य मन्त्री...

March 10, 2017

द्वार खोलने से पूर्व मैं अपने छोटे से कांच में से या बगल की खिड़की से देख लेता हूँ ,आगंतुक कौन  है ? फिर आवश्यकतानुसार द्वार खोलकर उसका स्वागत करता हूँ .

उस दिन वृद्धावस्था ने अचानक दरवाज़ा खटखटाया.|मैंने कांच से  देखकर उससे पूछा, आने की इतनी जल्दी क्या थी? क्या कुछ दिन और रुक नहीं सकती थी?

उसने उत...

उस दिन श्रीजी बाजार में सब्जी खरीदते हुए मिल गए। मैंने उन्हें नमस्ते की तो उन्होंने हमेशा की तरह अपनी गुरु गंभीर आवाज में उसका जवाब न देकर हलका सा सिर भर हिला दिया। मेरे चेहरे पर उभरे भाव देखकर उन्होंने अपने मुंह की तरफ इशारा किया। उनका मुख पान से अवरुद्ध था। मैं कुछ कहता उससे पहले ही उन्होंने अपने...

आज माँ अस्पताल में भर्ती शायद अंतिम साँसें गिन रही थी अपनी माँ की हालत से व्यथित नवल अपने फेसबुक तथा वाट्सएप के दोस्तों से एक विनम्र अपील की -

प्यारे दोस्तों! मेरी माँ बहुत बीमार है माँ जल्दी स्वस्थ हो जाये इसलिये आप सभी की दुआ और प्रार्थना कि मुझे बेहद आवश्यकता है....

Please reload

eKalpana literary magazine

​​Contact & Social Media -

ekalpanasubmit@gmail.com

सभी रचनाएं
ekalpanasubmit@gmail.com पर भेजें
Please reload

Please reload