... ON BORROWING a BOOK VS BUYING IT

""When you buy it, you are promoting the literature of your country.""

घर के सामने से गुजरते हुए उसने एक बार इस तरफ देखा और मुझे अपनी ओर देखता पाकर, झेंपकर सिर झुका लिया.

"शर्मा गई." मैं हौले से मुस्कुरा उठा.

एकाएक मैं सिहर उठा. लगा जैसे अब्बू ने मेरी हरकत देख ली है. बरामदे में सामने पड़ी आराम कुर्सी पर बैठे लाल लाल आंखों से मुझे घूरने रहे हैं. अक्सर ऐसा होता है; मुझे लग...

बहुत दिनों के बाद आज गांव की याद आने लगी हैं.

काम की व्यस्तता के कारण मैंने पन्द्रह साल शहर में गुजार दिए. शहर में सारी मूलभूत सुविधाऐं मेरे पास उपलब्ध हैं. मां-बाप, भाई-बहन आदि सभी को अपनी सुविधा के लिए अपने पास ही बुला लिया था. पन्द्रह साल मैंने शहर में कड़ी मेहनत की. मां-बाप का कभी मन होता तो वो...

देवी नागरानी का नया कहानी संकलन अब ऐमेज़ौन पर उपलब्ध है ...

Devi Nangrani writes with grace and never loses the logic. She has a gift of writing beautifully, her plots are powerful, understanding immense, heart sensitive and a knowledge of places and characters so diverse, it will amaze the reader. E...

Devi Nangrani की कहानी "पैबंद" का ऑडियो कहानी अंश ... "जंग जारी है" अब ऐमेज़ौन पर ....

क्यों न इस महिला दिवस हम सच में हर महिला से रूबरू होने का प्रण लें जिससे आने वाले सालों में हर साल हमें मार्च का एक दिन महिला के नाम न करना पड़े ... चार प्रबल, प्रख्यात लेखिकाओं के संकलन के प्रस्तुतिकरण के बाद, ई-कल्पना की अगली पेशकश ... कामिनी महाजन की तीन कविताएं ...

बदलते समाज की नारी

नारी फिर बेचा...

इस साल फिर महिला दिवस आ गया ... जब तक हम महिला दिवस मनाते जाएंगे, नारी पर कविताएं बनती जाएंगी ...

नारी तू सशक्त है

                

नारी तू सशक्त है।

बताने की न तो आवश्यकता है

न विचार विमर्श की है गुंजाइश।

निर्बल तो वह स्वयं है,

जो तेरे सबल होने से है भयभीत।

नारी तू...

औरत

संघर्षों की पोटली को सर पर थामे 
माँ, बेटी और पत्नि की भूमिका निभाती 
सुःख-दुःख की परछाइयों को जीवन्तता से लाँघती 
साहसी औरत 
जो कभी,
रहती थी चारदीवारी में 
आज ! बन्द किवाड़ों को धकेल बाहर आ खड़ी है 

अपनों के सपनों को पल्लू में बाँधे 
कल के कर्णधारों को गोद में दुलारती 

अपनी मुठ्ठी में उनके भवि...

Please reload

eKalpana literary magazine

​​Contact & Social Media -

ekalpanasubmit@gmail.com

Please reload

Please reload

लेखकों के लिये
ई-कल्पना जनवरी 2020 कहानी प्रतियोगिता के परिणाम घोषित हो चुके हैं.
पुरस्कार राशि -
प्रथम चुनी ₹ 3000
द्वितीय चुनी ₹ 2000
तीसरी चुनी कहानी ₹ 1000

 -
​​​सभी रचनाएं
ekalpanasubmit@gmail.com पर भेजें
प्रतियोगिता के अलावा हम ई-कल्पना ऑनलाईन पर चुनी हुई कविताएं, कहानियाँ और लेख भी प्रकाशित करते हैं. ये रचनाएं  भी काफी पढ़ी व सराही जाती हैं. आप अपनी कहानी या रचना ई-कल्पना ऑनलाईन के लिये भी भेज सकते हैं.