... ON BORROWING a BOOK VS BUYING IT

""When you buy it, you are promoting the literature of your country.""

ई-मेल में सूचनाएं, पत्रिका व कहानी पाने के लिये सब्स्क्राइब करें (यह निःशुल्क है)

बिस्तर पर लेटे-लेटे बुरी तरह कुड़मुड़ा रहा हूँ. घंटों से चेष्टा कर रहा हूँ कि नींद आ जाए पर कम्बख़्त आती नहीं. मौत का एक दिन मुअय्यन है, नींद क्यों रात भर नहीं आती! यह कैसा अजाना रोग लग गया? घड़ी की टिक-टिक बराबर कानों में पड़ रही है. समय क्या होगा? बारह! रेडियम डायल की सुइयाँ चमक रही हैं.

उठ कर स्वि...

Please reload

eKalpana literary magazine

​​Contact & Social Media -

ekalpanasubmit@gmail.com

सभी रचनाएं
ekalpanasubmit@gmail.com पर भेजें
Please reload

Please reload