... ON BORROWING a BOOK VS BUYING IT

""When you buy it, you are promoting the literature of your country.""

सुबह सुबह अब चली हवाएँ  । सर्दी आई जाड़ा लाए ।
ओढे कंबल और रजाई । हाथ ठिठुरते देखो भाई ।।
धूप लगे अब बड़े सुहाना  । बाबा बैठे गाये गाना ।।
भजिया पूड़ी सबको भाये । गरम गरम चटनी सँग खाये ।।
टोपी पहने काँपे लाला । आँखों में है चश्मा  काला ।।
आते झटपट खोले ताला । राम नाम का जपते माला ।।
बच्चे आते शोर मचाते...

मां दुर्गा के चरणों में मैं, अपना शीश झुकाता हूँ ।

तेरे दर पे आकर माता, श्रद्धा के फूल चढाता हूँ ।

कोई न हो जग में दुखी मां , तेरी कृपा बनी रहे ।

बस इसी आशा से मैं, लोगों को भजन सुनता हूँ ।

जिस पर तेरी कृपा पड़े मां , भाग्य बदल जाता है ।

पल भर में ही वह मानव , रंक से राजा बन जाता है ।

जहां जहां तक नजरें जा...

बाबाओं के नाम से देखो , कैसे सबको लूट रहे ।

भर चूका है पाप का घड़ा, अब तो भांडा फूट रहे ।

भोली भाली जनता को , अपने वश में करते हैं ।

अपने को भगवान बताकर, अपनी जेबें भरते हैं ।

लच्छेदार प्रवचन देकर, लोगों को खूब रिझाते हैं ।

गुरु मंत्र का नाम बताकर, अपनी जाल बिछाते हैं।

आलीशान बंगलों में रहकर, बाबा का ढोंग...

आजादी का पर्व

आजादी का पर्व मनाने, गाँव गली तक जायेंगे ।

तीन रंगों का प्यारा झंडा, शान से हम लहरायेंगे ।

नहीं भूलेंगे उन वीरों को , देश को जो आजाद किया ।

भारत मां की रक्षा खातिर, जान अपनी कुर्बान किया ।

आज उसी की याद में हम सब , नये तराने गायेंगे ।

तीन रंगों का प्यारा झंडा, शान से हम लहरायेंगे ।

चन्द्रशेखर...

Please reload

Contact & Social Media -

ekalpanasubmit@gmail.com

Please reload

Please reload

लेखकों के लिये
अब हम ई-कल्पना जनवरी 2020 कहानी प्रतियोगिता के लिये कहानियाँ स्वीकार कर रहे हैं. कहानियाँ 1500 से 6000 शब्द तक की हों. कहानियाँ 15 दिसम्बर 2019 तक स्वीकार की जाएँगीं.
पुरस्कार राशि -
प्रथम चुनी ₹ 3000
द्वितीय चुनी ₹ 2000
तीसरी चुनी कहानी ₹ 1000
कोशिश करें की कह