... ON BORROWING a BOOK VS BUYING IT

""When you buy it, you are promoting the literature of your country.""

1. सूरज चमको न!

सूरज चमको न

अँधकार भरे दिलों में

चमको न सूरज

उदासी भरे बिलों में

सूरज चमको न

डबडबाई आँखों पर

चमको न सूरज

गीली पाँखों पर

सूरज चमको न

बीमार शहर पर

चमको न सूरज

आर्द्र पहर पर

सूरज चमको न

अफ़ग़ानिस्तान की अंतहीन रात पर

चमको न सूरज

बुझे सीरिया और ईराक़ पर

जगमगाते पल के लिए

अरुणाई भरे कल के लिए

सूरज चमको न

आज

2...

एक दिन मैं

जैव-खाद में बदल जाऊँ

और मुझे खेतों में

हरी फ़सल उगाने के लिए

डालें किसान

एक दिन मैं

सूखी लकड़ी बन जाऊँ

और मुझे ईंधन के लिए

काट कर ले जाएँ

लकड़हारों के मेहनती हाथ

एक दिन मैं

भूखे पेट और

बहती नाक वाले

बच्चों के लिए

चूल्हे की आग

तवे की रोटी

मुँह का कौर

बन जाऊँ

———————-0———————

 सुशांत सुप्रिय

A-5001 ,

गौड़ ग्रीन...

कामगार औरतों के

स्तनों में

पर्याप्त दूध नहीं उतरता

मुरझाए फूल-से

मिट्टी में लोटते रहते हैं

उनके नंगे बच्चे

उनके पूनम का चाँद

झुलसी रोटी-सा होता है

उनकी दिशाओं में

भरा होता है

एक मूक हाहाकार

उनके सभी भगवान

पत्थर हो गए होते हैं

ख़ामोश दीये-सा जलता है

उनका प्रवासी तन-मन

फ़्लाइ-ओवरों से लेकर

गगनचुम्बी इमारतों तक के

बनने...

बचपन

दशकों पहले एक बचपन था

बचपन उल्लसित, किलकता हुआ

सूरज, चाँद और सितारों के नीचे

एक मासूम उपस्थिति

बचपन चिड़िया का पंख था

बचपन आकाश में शान से उड़ती

रंगीन पतंगें थीं

बचपन माँ का दुलार था

बचपन पिता की गोद का प्यार था

समय के साथ

चिड़ियों के पंख कहीं खो गए

सभी पतंगें कट-फट गईं

माँ सितारों में जा छिपी

पिता सूर्य में...

Please reload

Contact & Social Media -

ekalpanasubmit@gmail.com

Please reload

Please reload

लेखकों के लिये
अब हम ई-कल्पना जनवरी 2020 कहानी प्रतियोगिता के लिये कहानियाँ स्वीकार कर रहे हैं. कहानियाँ 1500 से 6000 शब्द तक की हों. कहानियाँ 15 दिसम्बर 2019 तक स्वीकार की जाएँगीं.
पुरस्कार राशि -
प्रथम चुनी ₹ 3000
द्वितीय चुनी ₹ 2000
तीसरी चुनी कहानी ₹ 1000
कोशिश करें की कहानियाँ यूनिकोड में हों.
 
  हर रचना के साथ अटैचमेंट में यह स्पष्ट लिखें कि रचना मौलिक है और केवल
    हमें भेजी गई है. रचना या उसका हिस्सा आपके ब्लोग पर प्रकाशित हो चुका हो तो
  रचना न भेजें.
 -
​​​सभी रचनाएं
ekalpanasubmit@gmail.com पर भेजें
​​