... ON BORROWING a BOOK VS BUYING IT

""When you buy it, you are promoting the literature of your country.""

महात्मा गांधी संस्थान, मॉरिशस द्वारा स्थापित प्रतिष्ठित अंतरराष्ट्रीय द्वैवार्षिक पुरस्कार ‘आप्रवासी हिंदी साहित्य सृजन सम्मान’ के प्रथम विजेता अनुराग शर्मा एक लेखक, सम्पादक, किस्सागो, कवि और विचारक हैं। ‘आनंद ही आनंद’ संस्था द्वारा उन्हें 2015-16 का ‘राष्ट्रीय भाष्य गौरव सम्मान’ प्रदान किया गया था। विश्व हिंदी सचिवालय की एकांकी प्रतियोगिता में उन्हें पुरस्कार मिल चुका है। हिंदी लेखकों की वैश्विक ‘राही’ रैंकिंग में उनका चालीसवाँ स्थान है।

 

आईटी प्रबंधन में स्नातकोत्तर अनुराग पिट्सबर्ग के एक संस्थान में अहिंदीभाषी छात्रों को हिंदी का प्रशिक्षण देते हैं। वे हिंदी तथा अंग्रेज़ी में प्रकाशित मासिक पत्रिका सेतु (ISSN 2475-1359) के संस्थापक, प्रकाशक तथा प्रमुख सम्पादक हैं। वे रेडियो प्लेबैक इंडिया के सह संस्थापक, तथा पिटरेडियो के संस्थापक हैं।

 

प्रकाशित कृतियाँ

अनुरागी मन (कथा संग्रह); देशांतर (काव्य संकलन); एसर्बिक ऐंथॉलॉजी (अंग्रेज़ी काव्य संकलन); पतझड सावन वसंत बहार (काव्य संग्रह); इंडिया ऐज़ ऐन आय टी सुपरपॉवर (अध्ययन); विनोबा भावे के गीता प्रवचन की ऑडियोबुक; सुनो कहानी ऑडियोबुक (प्रेमचन्द की कहानियाँ); हिन्दी समय पर कहानियाँ; तकनीक सम्बन्धी शोधपत्र, कवितायें, कहानियाँ, साक्षात्कार, तथा आलेख अंतर्जाल पर, पत्रिकाओं व हिन्दी समाचार पत्रों में प्रकाशित

indiasmart@gmail.com

बिग-क्लाउड-2068

सन 2068 – वैज्ञानिक प्रगति ने संसार को एक वैल-कनेक्टेड विश्व-नगरी में बदल दिया है

किताबें तो 2043 में छपी अंतिम पुस्तक के साथ डिजिटल युग के चरमोत्कर्ष पर ही समाप्त हो गई थीं। तब तक कुछ किताबें डिजिटल स्वरूप में प्राचीन-तकनीक वाले कम्प्यूटरों में रह गई थीं। लेकिन अब तो कम्प्यूटर होते ही नहीं। एक अति-तीव्र हस्तक में ही सब कुछ होता है। सारी जानकारी तो केंद्रीय बिग-क्लाउड पर रहती है। लेकिन बिग-क्लाउड के अचानक इस बुरी तरह बिगड़ जाने की किसी ने कल्पना भी नहीं की थी। किसी को ठीक से पता नहीं कि बिग-क्लाउड को हुआ क्या था। दुर्भाग्य से उसकी मरम्मत के मैनुअलों की इलेक्ट्रॉनिक प्रतियाँ भी बिग-क्लाउड पर ही रखी होने के कारण अब अप्राप्य हैं। एक ही व्यक्ति से उम्मीद है। वह है जॉनी बुकर।

जॉनी बुकर वर्तमान क्लाउड के मूल निर्माताओं में से एक है। कभी वह बिग-क्लाउड परियोजना का प्रमुख था। बल्कि सच कहें तो वही इस विचार का जनक था कि संसार को केवल एक क्लाउड की ज़रूरत है। उसी के प्रयत्नों के कारण संयुक्त राष्ट्र ने सभी देशों पर दवाब डालकर पूरे विश्व की समस्त जानकारी को एक केंद्रीय क्लाउड में डाला, जिसे बिग-क्लाउड का नाम दिया गया।

बिग-क्लाउड की विश्व-व्यापी सफलता के बाद बुकर की गिनती संसार के सर्वाधिक धनाढ्यों में होने लगी। लेकिन रिटायरमेंट के बाद वह थोड़ा बहक गया। जीवन-पर्यंत अविवाहित रहे बुकर ने बिग-क्लाउड के खतरों पर बोलना शुरू कर दिया। उसे जिस समारोह में भी बुलाया जाता वह डिजिटल जगत से ‘किताब की ओर वापसी’ की बात करता। फिर उसने कुछ लोगों को इकट्ठा कर ‘किताब-वापसी’ अभियान भी शुरू किया। स्कूल-कॉलेजों में बुलाया जाना बंद हुआ तो स्वयं ही विभिन्न वैज्ञानिक और तकनीकी सम्मेलनों में जा-जाकर किताब-वापसी की ज़रूरत पर भाषण देने लगा। शुरू में तो लोगों ने सुना लेकिन फिर बाद में उस पर सठियाए पुरातनपंथी का ठप्पा लग गया। पुस्तक बचाओ आंदोलन आरम्भ करने के कारण संसार भर में उसकी पहचान एक ऐसे दकियानूसी बूढ़े के रूप में स्थापित हो गई जिसे अपने जैसे दो-चार बूढ़ों के अतिरिक्त किसी का समर्थन न था। उसने बहुत कोशिश की, लेकिन संगठन बढ़ना तो दूर, बूढ़े सदस्यों की मृत्यु के साथ धीरे-धीरे टूटना आरम्भ हो गया। एक दिन ऐसा आया जब बुकर अकेला रह गया। कभी-कभार उसके बयान क्लाउड पर दिखते थे, फिर वह अज्ञातवास में चला गया था। अफ़वाहें थीं कि अपनी अकूत दौलत से उसने डिजिटल रिवॉल्यूशन के बाद भी बच रही सारी किताबें खरीदकर किसी गुप्त जगह में संसार का सबसे बड़ा पुस्तकालय बना डाला था।

***

सभी विशेषज्ञों की राय थी कि बुकर तथा उसकी टीम द्वारा दशकों पहले छापे गये टैक्निकल मैनुअल ही बिग-क्लाउड की समस्या से उबार सकते हैं।

वैसे तो तब तक तकनीक इतनी उन्नत हो चुकी थी कि जंगल में मरी हुई किसी चींटी के भी निर्देशांक सही-सही पता किये जा सकते थे, लेकिन बिग-क्लाउड सम्बंधित समस्याओं के चलते बुकर का पता लगाने में पुलिस को कई दिन लग गये।

जब पुलिस वहाँ पहुँची तो वह संसार की बेरुखी से निराश और हताश होकर अपनी पुस्तकें अपने महल के परिसर में लगी एक विशाल भट्टी में जला रहा था। आखिरी पुस्तक उनकी आँखों के सामने जली, जिस पर लिखा था – बिग-क्लाउड ट्रबलशूटिंग (अंतिम खण्ड)।