eKalpana Kitab is an independent publishing house. We will publish selected story collections and novels  in Hindi and English.

Contact for queries -

ekalpanakitab@gmail.com

Our Books

the "woman series"

"Woman's virtue is Man's greatest invention ..."

चार प्रबल लेखिकाओं के चार कहानी संकलन

Vahaan Main Hoon
₹150.00मूल्य

जया जादवानी हिंदी की चर्चित और प्रतिभाशाली कथाकार हैं. लगभग तीन दशकों से कथा लेखन में लगातार सक्रिय जया जादवानी ने बिना किसी शोर के स्त्री विमर्श के अत्यंत महत्वपूर्ण पक्षों और प्रायः विस्मृत अथवा तिरस्कृत आयामों को बड़ी शिद्दत से अपनी कहानियों में रेखांकित किया है. रोज़मर्रा के स्त्री जीवन की विडम्बनाओं और विषमताओं को बेहद प्रभावी ढंग से अपनी रचनाओं के माध्यम से प्रस्तुत किया है. संगीत के स्वरों और रागों के मानिंद उनकी भाषा कहानियों को रसमय बनाती है.

वहाँ मैं हूँ - कहानी संकलन - जया जादवानी

दिवास्वप्न - कहानी संकलन - सरला रवीन्द्र
₹150.00मूल्य

सरला जी को कभी नहीं लगा कि वो एक लेखिका हैं. फिर भी जो इनकी कहानियाँ पढ़ता है, गुम हो जाता है, रम जाता है इनकी सपनों की दुनिया में. आप भी हो जाएँगे.

ऐसा नहीं है कि इनकी कहानियों में वे सब द्वंद्व नहीं जो मानव जीवन के अपृथक अंग बन कर कहीं से भी, कभी भी पनप उठते हैं ... नहीं, वो सब विलक्षण इनकी कहानियों में मौजूद हैं, पर सरला जी तो किसी अद्भुत जगह, अपने किसी सुगम उपवन में भटक कर अपने सब गीत रचती हैं, वही गीत जब तक हमारे सामने आते हैं, कहानियों का रूप धारण कर आते हैं. ऐसी कहानियों का संकलन है “दिवास्वप्न.”

दिवास्वप्न - कहानी संकलन - सरला रवीन्द्र

जुर्म - कहानी संकलन - तबस्सुम फ़ातिमा

“मेरे यहां स्त्री पर हावी पुरुष मानसिकता को ले कर एक आक्रोश है. यह आक्रोश विश्व-पटल पर फैलती स्त्री चेतना और मज़बूती का प्रतीक है.” तबस्सुम फ़ातिमा कहती हैं. “हम उसे हर बार सपने देखने से पहले ही मार देते हैं ...”

लेकिन शायद गुस्से से भी ज़्यादा तबस्सुम फातिमा में संवेदना है, तभी उनकी एक-एक कहानी दमदार होती है.

जंग जारी है - कहानी संकलन - देवी नागरानी

देवी नागरानी की हर कथा अपने पात्रों और प्रसंग के सहारे आपको संवेदित करती है। ये कहानियाँ पढ़कर भूल जाने वाले कहानियाँ नहीं हैं। इन कथाओं में उतना ही कहा गया है जितना अनिवार्य है। इन्हें पढ़ने के बाद इनके पात्र, घटनायें, संवाद, और विचार पाठक के साथ उठते-बैठते हैं। अपनी बात के मर्म को स्पष्टता के साथ पाठक के मर्म तक पहुँचाने की कला में लेखिका सिद्धहस्त हैं। 

जंग जारी है - कहानियाँ देवी नागरानी
₹150.00मूल्य
जुर्म कहानी संकलन - तबस्सुम फातिमा
₹150.00मूल्य

Our Books

the "Thugs Series"

"It is the gur that changes our nature ..."

TRAILER OF

"THE THUGS AND A COURTESAN"

NOVEL BY MUKTA SINGH-ZOCCHI

CONFESSIONS OF A THUG New Illustrated and Annotated Edition
₹200.00मूल्य

"A strange page in the book of human life is this! Thought I, as he left the room. That man, the perpetrator of so many hundred murders, thinks on the past with satisfaction and pleasure ..." Meadows Taylor's 1839 classic "Confessions of a Thug" now with new illustrations from the album of Colonel James Skinner

The Thugs and a Courtesan
₹150.00मूल्य

Join Firangia in this journey of romance and adventure, devotion, crime and deception, set in the year 1819, through villages, jungles and small towns. Read in this second edition of Mukta Singh-Zocchi's acclaimed novel about grandiose ambitions pitted against petty schemes, love and deceit, and what in our modern times is termed evil. You will find in this intellectually ambitious, meticulously researched, action-packed historical fiction a broader, age-independent significance.

Tropical Leaves
Thug
₹150.00मूल्य

ठग उन्नीसवीं शताब्दी भारतीय पृष्ठपट को चीरती हुई एक रोमांस और रोमांच कथा है. यह एक प्रेम-कहानी है, जिसमें धोखा है, हार भी है. आज के दौर में जिसे ग़लत कहा जाएगा, इसमें वो है. ठग भारतवर्ष में रेलगाड़ियों के आने के पूर्व के उन दिनों की कहानी है जब यात्री आपसी सुरक्षा के लिये बड़े कारवां में यात्रा करते थे. फ़िरंगिया दक्खन से हिंदुस्तान वापस लौटते हुए एक व्यापारी दल के युवा नेता के रूप में यात्रा कर रहा था, असल में ठग दल का नेता था. यात्रियों को मारने का उसे दिव्य आदेश था. उधर अपनी छोटी सी पलटन को साथ लिये, आज़ादी के लिये हिंदुस्तान की किसी बड़ी सेना में शामिल होने पर आमदा चंदा बाई पूना की एक क्षत्रिया थी, देश-प्रेमी थी. भाग्य से या जान बूझ कर, फ़िरंगिया और चंदा बाई के रास्ते अनेकों बार मिले. चंदा बाई फ़िरंगिया से प्रेम करने लगी और आखिरकार दोनों यात्रा-दल एक साथ रास्ता तय करने लगे. धीरे धीरे इरादों के खुलासे होने लगे. छिपे रूप सामने आने लगे. दोनों की साज़िशें एक दूसरे पर हावी होने लगीं. कभी प्रेमी, कभी धोखेबाज़, एक स्वांग रच रहा था, दूसरा सच्चा प्रेमी था. प्यार का ये खेल दोनों को ही महंगा पड़ा.

मुक्ता सिंह-ज़ौक्की के 2014 में प्रकाशित सुप्रसिद्ध व चर्चित उपन्यास The Thugs and a Courtesan का अब हिन्दी अनुवाद पढ़िये

Above the Clouds
ई-मेल में सूचनाएं, पत्रिका व कहानी पाने के लिये सब्स्क्राइब करें (यह निःशुल्क है)