top of page
  • मोहित कुमार पाण्डेय (रुद्र)

“यूँ ही कभी अकेले में”


यूँ ही कभी अकेले मे, तनहाइयों के सहारे से, यादों के गलियारों मे, में थोड़ा टहल आता हूँ, बंद पड़े पुराने से किसी हिस्से मे, दो पल और बिता आता हूँ, दबी पड़ी किसी मटमैली फीकी किताब से

जिंदगी के हस्नुमा दो चार पन्ने, वापस दोहरा आता हूँ, यूँ ही कभी अकेले मे, तनहाइयों के सहारे से, यादों के गलियारों मे, में थोड़ा टहल आता हूँ |

 

सम्पर्क ई-मेल:-kuntalmohitpandey@gmail.com

दूरभाष :-9956531043

31 दृश्य

हाल ही के पोस्ट्स

सभी देखें

आपके पत्र-विवेचना-संदेश
 

bottom of page