• विशाल शुक्ला

दीप


हे दीप ! तू कितना सौभाग्यशाली है

घोर अंधेरे से तू बड़ा ही बलशाली है !

शत - शत नमन तेरे त्याग साहस को

तेरे कारण काली रात भी उजाली है !

 

विशाल शुक्ल

साहित्यकार

रेलवे स्टेशन

छिंदवाड़ा

मध्य प्रदेश

480002

मोबाइल 9424300896

ईमेल vishalshuklaom@gmail.com

10 दृश्य

हाल ही के पोस्ट्स

सभी देखें

आपके पत्र-विवेचना-संदेश