• मंजुला भूतड़ा

महामारी के दिनों में ... कविता "थैंक्यू"

काम कितना भी कठिन हो,

तुम जरा घबराते नहीं।

यत्न करने से कभी,तुम जी चुराते नहीं।

वक्त आने पर करते हैं,हर सामना।

हम सुरक्षित रहें,यही उनकी

कामना।

घरों में ही रहें हम,रहते इसी चिंता में,

बाहर स्वयं निकल रहे, दुर्गम हालात में।

डाक्टर्स,सफाईकर्मी, पुलिस वाले,

सभी जो हमें सुविधा मुहैया कराने वाले।

धरती के भगवान,हमारे जीवन रखवाले।

है नमन उन्हें, उनके कार्यों को,

कोशिश करें सहज बनाएं,उनकी राहों को।

देते हैं धन्यवाद और करते हैं नमन,

कर्मवीरों का दिल से अभिनन्दन।

*धन्यवाद, वंदन, अभिनन्दन*

मंजुला भूतड़ा, इन्दौर

manjulabhootra@gmail.com

3 व्यूज0 टिप्पणियाँ

हाल ही के पोस्ट्स

सभी देखें

ठीक साल बाद