... ON BORROWING a BOOK VS BUYING IT

""When you buy it, you are promoting the literature of your country.""

"यादें" - कविता

 


 

ये सिर्फ यादें ही तो है ,

क्या हुवा अगर सताती है,

मगर पास तो वही रह जाती है,

ये सिर्फ यादें ही तो है ,

भूल जाने की फितरतो के बीच

खीच किस्सी किनारे की ओर,

बंद निगाहों से

ये बरसातो क दौर ,

ये सिर्फ यादें ही तो है ,

उनके अक्स को ,जेहन में जिन्दा रखे हुये

बोझिल मन की रौनक लिये

अब ये सिर्फ यादें ही तो है |

मोहित कुमार पांडे

 

सम्पर्क  ई-मेल:-kuntalmohitpandey@gmail.com

दूरभाष :-9956531043

Share on Facebook
Share on Twitter
Please reload

Archive
Please reload

Search By Tags
Please reload

Follow Us
  • Facebook Basic Square
  • Twitter Basic Square
  • Google+ Basic Square