आजादी का पर्व

आजादी का पर्व

 

आजादी का पर्व मनाने, गाँव गली तक जायेंगे ।

तीन रंगों का प्यारा झंडा, शान से हम लहरायेंगे ।

नहीं भूलेंगे उन वीरों को , देश को जो आजाद किया ।

भारत मां की रक्षा खातिर, जान अपनी कुर्बान किया ।

आज उसी की याद में हम सब , नये तराने गायेंगे ।

तीन रंगों का प्यारा झंडा, शान से हम लहरायेंगे ।

चन्द्रशेखर आजाद भगतसिंह,  भारत के ये शेर हुए ।

इनकी ताकत के आगे, अंग्रेजी सत्ता ढेर हुए ।

बिगुल बज गया आजादी का, वंदे मातरम गायेंगे ।

तीन रंगों का प्यारा झंडा, शान से हम लहरायेंगे ।

मिली आजादी कुर्बानी से,  अब तो  नही जाने देंगे ।

चाहे कुछ हो जाये फिर भी, आंच नहीं आने देंगे ।

संभल जाओ ओ चाटुकार तुम, अब तो शोर मचायेंगे ।

तीन रंगों का प्यारा झंडा, शान से हम लहरायेंगे ।

हिन्दू मुस्लिम सिख ईसाई, सबको आगे आना होगा ।

स्कूल हो या मदरसा सब पर , तिरंगा फहराना होगा ।

देशभक्ति का जज्बा है ये , मिलकर साथ मनायेंगे ।

तीन रंगों का प्यारा झंडा,  शान से हम लहरायेंगे ।

रचना 

महेन्द्र देवांगन माटी 

 पंडरिया  (छत्तीसगढ़ )

mahendradewanganmati@gmail.com

दूरभाष - 8602407353

 

 

Share on Facebook
Share on Twitter
Please reload

eKalpana literary magazine

​​Contact & Social Media -

ekalpanasubmit@gmail.com

सभी रचनाएं
ekalpanasubmit@gmail.com पर भेजें
Please reload

Please reload

 

... ON BORROWING a BOOK VS BUYING IT

""When you buy it, you are promoting the literature of your country.""

ई-मेल में सूचनाएं, पत्रिका व कहानी पाने के लिये सब्स्क्राइब करें (यह निःशुल्क है)