कुछ दिन तो गुजारो ....

September 12, 2017

सब का मालिक एक है,क्या गुजरात बिहार |

चारो-खाने चित हुई ,जनता की सरकार ||

----

पास अभी अनमोल ये,जनता का उपकार |

देख समझ के बोलिये ,नाविक-खेवनहार ||

---

वे कहते कुछ दिन सही,सह गुजरात गुजार|

अभी-अभी तो लौट हम,देखे  रंग हजार ||

---

पास हमारे  वोट हैं,करते तुम तकरार|

मंजिल तक पहुचा गई ,हमको कंडम कार ||

---

मन में अदभुत शांति का ,आवे कभी विचार |

दौरा कर गुजरात का ,विधायक ले उधार ||

---

sushil.yadav151@gmail.com

 

सुशील यादव

दुर्ग

Share on Facebook
Share on Twitter
Please reload

eKalpana literary magazine

​​Contact & Social Media -

ekalpanasubmit@gmail.com

सभी रचनाएं
ekalpanasubmit@gmail.com पर भेजें
Please reload

Please reload

 

... ON BORROWING a BOOK VS BUYING IT

""When you buy it, you are promoting the literature of your country.""

ई-मेल में सूचनाएं, पत्रिका व कहानी पाने के लिये सब्स्क्राइब करें (यह निःशुल्क है)