घरौंदा

September 22, 2017

 

 

 

घरोंदों में अभाव पकता है,

अभाव की चाशनी दिलों को जोड़ देती है ।

खून पसीना बहाकर घर बनता है,

पर फिर-

घर के कमरों सा दिल बंट जाता है।

घरोंदे का सुख

घर के किसी कोने में ,

अनचींहा,अनदेखा, अनजाना सा

रजकण बन रह जाता है

बिजूखा (Scare Crow ) बन

घर की ड्योड़ी पर चिपक जाता है,

किसी दिठौने की तरह।

2.6.06

urb1965@gmail.com

Share on Facebook
Share on Twitter
Please reload

eKalpana literary magazine

​​Contact & Social Media -

ekalpanasubmit@gmail.com

सभी रचनाएं
ekalpanasubmit@gmail.com पर भेजें
Please reload

Please reload

 

... ON BORROWING a BOOK VS BUYING IT

""When you buy it, you are promoting the literature of your country.""

ई-मेल में सूचनाएं, पत्रिका व कहानी पाने के लिये सब्स्क्राइब करें (यह निःशुल्क है)