अफवाहों के पैर में ....

सावधान रहिये सदा ,जब हों साधन हीन।

जाने कल फिर हो न हो,पैरों तले जमीन।।

#

अफवाहों के पैर में ,चुभी हुई जो कील ।

व्याकुल वही निकालने ,बैठ गया 'सुशील' ।।

#

अफवाहें मत यूँ उड़े ,करते लहू-लुहान ।

मंदिर सूना भजन बिन,मस्जिद बिना अजान ।।

#

मेरे घर में छा गया, मेरा ही आतंक ।

राजा से कब हो गया ,धीरे-धीरे रंक ।।

#

हाथ लगी जब चाबियां ,निकले नीयत-खोर ।

बन के भेदी जा घुसे ,लंका चारों ओर ।।

 

सुशील यादव , दुर्ग

sushil.yadav151@gmail.com
 

23.8.17

Share on Facebook
Share on Twitter
Please reload

eKalpana literary magazine

​​Contact & Social Media -

ekalpanasubmit@gmail.com

सभी रचनाएं
ekalpanasubmit@gmail.com पर भेजें
Please reload

Please reload

 

... ON BORROWING a BOOK VS BUYING IT

""When you buy it, you are promoting the literature of your country.""

ई-मेल में सूचनाएं, पत्रिका व कहानी पाने के लिये सब्स्क्राइब करें (यह निःशुल्क है)