किसान ...

 

 

धधक रही है किसकी छाती ,आक्रोश में कौन उबला  है

कौन पसीना गिरवी रखता ,किसका खूँ दिनरात जला है

वो किसान जो खेत- खलिहान ,लेकर आता है हरियाली

तब मनती है गाँव-शहर में ,होली  ईद और  दीवाली

 

उसमे  ईश्वर  भगवान वही  ,अन्न सब को उपलब्ध कराता

एक निवाले की खातिर तो ,बंधा रहता रिश्ता -नाता

एक निवाला खा आदम  , तूफानो सीखा लड़ पाना

क्षुधा शांत मानव ही जीता ,शांति गीत को अपनाना

 

उस किसान को रुष्ठ करो मत ,भर दो उसकी आना-पाई

रूखी- सूखी खाकर सहता  ,जग में होती हुई हँसाई

प्रण ये करो कि किसान कोई , अब लटके मिले न पेड़ों पर

कोई लाश बिछे ना देखें ,  बंजर खेतों की  मेड़ों पर

 

सुशील यादव

६ जुलाई १८

Share on Facebook
Share on Twitter
Please reload

eKalpana literary magazine

​​Contact & Social Media -

ekalpanasubmit@gmail.com

सभी रचनाएं
ekalpanasubmit@gmail.com पर भेजें
Please reload

Please reload

 

... ON BORROWING a BOOK VS BUYING IT

""When you buy it, you are promoting the literature of your country.""

ई-मेल में सूचनाएं, पत्रिका व कहानी पाने के लिये सब्स्क्राइब करें (यह निःशुल्क है)