पसीना झर रहा झरने की तरह 

जिस्म तर, कपड़े हैं तर 

दिन को मक्खियां 

और रात को मच्छर 

कैसे सहें इस उमस का कहर ?

 

अमीरों ने लगाईं एसियां घरों में 

लेते मजे गर्मी में सर्दी का 

पूछो रामू से, श्यामू से 

कैसे गुजरती हैं रातें उमस भरीं ?

 

खड़ा था धनुआ मालिक के पास 

आ रही थी जिस्म के मैल की बू 

मालिक गुर्राया, दूर खड़े होने का आदेश सुनाया 

धनुआ दोनों हाथ जोड़ गिड़गिड़ाया |

 

ये उमस भरे दिन 

गरीबों के लिए बड़ी आफत भरे दिन होते हैं 

न दिन को सुकून, न रात को चैन 

रोज जीते हैं और रोज मरते हैं 

डेंगू, मलेरिया, चिकनगुनिया से लड़ते हैं |

 

- मुकेश कुमार ऋषि वर्मा 

ग्राम रिहावली, डाक तारौली गुर्जर, 

फतेहाबाद, आगरा, 283111

Share on Facebook
Share on Twitter
Please reload

eKalpana literary magazine

​​Contact & Social Media -

ekalpanasubmit@gmail.com

सभी रचनाएं
ekalpanasubmit@gmail.com पर भेजें
Please reload

Please reload

 

... ON BORROWING a BOOK VS BUYING IT

""When you buy it, you are promoting the literature of your country.""

ई-मेल में सूचनाएं, पत्रिका व कहानी पाने के लिये सब्स्क्राइब करें (यह निःशुल्क है)