... ON BORROWING a BOOK VS BUYING IT

""When you buy it, you are promoting the literature of your country.""

आज अपने अन्तर्मन में

कुछ टूटा-सा

कुछ बिखरा-सा

कुछ अँधेरा-सा

आँखों के समक्ष

ह्दय के पास कहीं

कुछ सूना-सूना-सा

महसूस करता हूँ।

 

अँधेरे में डोलती

जानी-पहचानी परछाइयाँ

आँखों के समक्ष

महसूस करता हूँ।

 

टूट चुका है ह्दय

इस दुनिया को देखकर

इक आँसू-सा बहता

महसूस करता हूँ।

 

फैली है आग दुनिया में

चिल्लाते हैं लोग कितने

अपने अन्दर बस एक

कोलाहल-सा महसूस करता हूँ।

 

बैचेनी भरे माहौल में

लोगों के बीच बैठा हुआ

अपने मन के अन्दर कहीं

एक चीख-सा महसूस करता हूँ।

 

बंजा़रों की तरह

आवारों की तरह

घूमता-फिरता हूँ इधर-उधर

आज एक घर को

महसूस करता हूँ।

 

उदास हूँ ज़िन्दगी से

आँसू बहाता राहों में

एक बाँह को

महसूस करता हूँ।

 

dheeraj.k.srivastava76@gmail.com 

 

Share on Facebook
Share on Twitter
Please reload

Archive
Please reload

Search By Tags
Please reload

Follow Us
  • Facebook Basic Square
  • Twitter Basic Square
  • Google+ Basic Square