महामारी के दिनों में ... एक कविता "धन्यवाद"

 

धन्यवाद, धन्यवाद करते हैं ।

धन्यवाद करोना से लड़ने वाले सेनानियों का ।

धन्यवाद मानवता को बचाने का ।

धन्यवाद इंसानियत को बड़ाने का ।

धन्यवाद मानवता को सिखाने का ।

 

हम तुम्हें धन्यवाद करते हैं ।

 

 

बचपन से एक चाह थी ।

देवता को  देखने की बहुत बड़ी राह थी ।

अब वो देवता कहता है ।

तेरा देवता तो इन सेनानियों के स्वरूप में ही रहता है ।

 

धन्यवाद धन्यवाद करते हैं ।

अब मैं भी तुम्हारे साथ कुछ हथियार लेकर लडूंगा ।

संयम और संकल्प का साथ लेकर लड़ूंगा ।

ना टूटेगा जोश मेरा ।

ना रुकोगे तुम  ।

 

 

जीतोगे अजय होगे विजय होगे तुम ।

बस इस उम्मीद से विजय की फरियाद करते हैं ।

 

धन्यवाद धन्यवाद करते हैं ।

नहीं होगी कोई कमी विश्वास है हमें ।

शासन है मानवता का ।

सबको साथ लेकर चले ।

 

ध्यर्य बड़ाओ ध्यर्य बड़ाओ ।

ध्यर्य  सबको बड़ाना है ।

बस इस बात का ही अब हम संवाद करते हैं ।

धन्यवाद धन्यवाद करते हैं ।

 

धन्यवाद जीवन बचाने वाले ।

सभी राष्ट्र सेवक सेनानियों का ।

हम धन्यवाद करते हैं ।

 

 

- हर्ष कुमार सेठ

hks2528@rediffmail .com
दूरभाष न. 9911277762,

seth@ttkhealthcare.com

Share on Facebook
Share on Twitter
Please reload

eKalpana literary magazine

​​Contact & Social Media -

ekalpanasubmit@gmail.com

सभी रचनाएं
ekalpanasubmit@gmail.com पर भेजें
Please reload

Please reload

 

... ON BORROWING a BOOK VS BUYING IT

""When you buy it, you are promoting the literature of your country.""

ई-मेल में सूचनाएं, पत्रिका व कहानी पाने के लिये सब्स्क्राइब करें (यह निःशुल्क है)