महामारी के दिनों में ...महेन्द्र देवांगन माटी के दोहे 2 "रोटी"

 

रोटी खातिर आज सब , दौड़ रहे हैं लोग ।
कोई तड़पे भूख से, कोई छप्पन भोग।।

देख धरा के हाल को, क्या होगा भगवान ।
भूख मिटाने आदमी,  बन बैठा शैतान ।।

काम करो सब प्रेम से,  तभी बनेगी बात।
कड़वाहट जो घोल दे, वो खायेगा लात।।

धरती माता को कभी,  मत बाँटो इंसान ।
अन्न उगाओ खेत में,  तभी बचेगी जान।।

माटी के सब पूत हैं,  कर लो ऐसे काम।
याद करे सब आदमी,  रहे जगत में नाम।।

 

 


महेन्द्र देवांगन माटी  (शिक्षक)
mahendradewanganmati@gmail.com

पंडरिया छत्तीसगढ़
8602407353
 

 

Share on Facebook
Share on Twitter
Please reload

eKalpana literary magazine

​​Contact & Social Media -

ekalpanasubmit@gmail.com

सभी रचनाएं
ekalpanasubmit@gmail.com पर भेजें
Please reload

Please reload

 

... ON BORROWING a BOOK VS BUYING IT

""When you buy it, you are promoting the literature of your country.""

ई-मेल में सूचनाएं, पत्रिका व कहानी पाने के लिये सब्स्क्राइब करें (यह निःशुल्क है)