दीप

 

 

हे दीप ! तू कितना सौभाग्यशाली है 

घोर अंधेरे से तू बड़ा ही बलशाली है !

शत - शत नमन  तेरे त्याग साहस को

तेरे कारण काली रात भी उजाली है !

विशाल शुक्ल

                              साहित्यकार

                              रेलवे स्टेशन

                                छिंदवाड़ा 

                                मध्य प्रदेश 

                                 480002

            मोबाइल 9424300896

ईमेल vishalshuklaom@gmail.com

Share on Facebook
Share on Twitter
Please reload

eKalpana literary magazine

​​Contact & Social Media -

ekalpanasubmit@gmail.com

सभी रचनाएं
ekalpanasubmit@gmail.com पर भेजें
Please reload

Please reload

 

... ON BORROWING a BOOK VS BUYING IT

""When you buy it, you are promoting the literature of your country.""

ई-मेल में सूचनाएं, पत्रिका व कहानी पाने के लिये सब्स्क्राइब करें (यह निःशुल्क है)