... ON BORROWING a BOOK VS BUYING IT

""When you buy it, you are promoting the literature of your country.""

ई-मेल में सूचनाएं, पत्रिका व कहानी पाने के लिये सब्स्क्राइब करें (यह निःशुल्क है)

एक नज़्म ...

किस अदा से नवाजा है या रब तूने उनको,

के जख्म देकर पूछते हैं - हाल कैसा है ?

कुफ्र में ही हमने गुजारे हैं अपने दिन,

अब सोचते हैं तुझसे ये सवाल कैसा है ?

आशिकमिजाज़ी नहीं परवाज-ए-इश्क़ है,

हासिल हों वो हमें ये ख़याल कैसा है ?

सोहबत में रहे उनकी दो पल को आज फिर,

मयस्सर है उनकी क़ुर्बत फिर मलाल कैसा है ?

मेरा नाम नितिन चौरसिया है और मैं चित्रकूट जनपद जो कि उत्तर प्रदेश में है का निवासी हूँ ।

स्नातक स्तर की पढ़ाई इलाहाबाद विश्वविद्यालय से करने के उपरान्त उत्तर प्रदेश प्राविधिक विश्वविद्यालय से प्रबंधन स्नातक हूँ । शिक्षणऔर लेखन में मेरी विशेष रूचि है । वर्तमान समय में लखनऊ विश्वविद्यालय में शोध छात्र के रूप में अध्ययनरत हूँ ।

 

फ़ोन -09453152897

ई-मेल - niks2011d@gmail.com

 

 

 

Share on Facebook
Share on Twitter
Please reload

Archive
Please reload

Search By Tags