शहर में ...

September 29, 2019

वो भी खाने कमाने निकले 

सौ- सौ जिनके  ठिकाने निकले 

#

हवा बदनाम वही करते जो  

लगा कर आग  बुझाने निकले 

#

जितने सौदों में हाथ लगाते 

उनके कई फसाने निकले 

 #

रिदा अभी ये खूब चलेगी 

पैबन्द जरा लगाने निकले 

#

नाकामी से वे क्या घिरते 

कामयाब घराने निकले 

#

पांच साल की जिन्दा कौमे

गली-गली चिल्लाने निकले 

#

 पंचायत से  खौफ-जदा थे 

शहर में ज्यादा थाने निकले 

 

 

सुशील यादव दुर्ग

sushil.yadav151@gmail.com

Share on Facebook
Share on Twitter
Please reload

eKalpana literary magazine

​​Contact & Social Media -

ekalpanasubmit@gmail.com

सभी रचनाएं
ekalpanasubmit@gmail.com पर भेजें
Please reload

Please reload

 

... ON BORROWING a BOOK VS BUYING IT

""When you buy it, you are promoting the literature of your country.""

ई-मेल में सूचनाएं, पत्रिका व कहानी पाने के लिये सब्स्क्राइब करें (यह निःशुल्क है)