• सुषमा मुनीन्द्र

स्कूल चलें हम




माह अगस्त


इस जनपद की कुण्डली के किस घर में कैसा दुष्ट ग्रह बैठ गया है कि शिक्षा के मंदिरों में सन्नाटा और सनसनी व्याप्त है. प्रदेश की राजधानी से पधारे प्रभारी सचिव दो दिवसीय तूफानी दौरा कर ‘स्कूल चलें हम’ अभियान की गतिविधियों का नजारा कर रहे हैं. सचिव समूह के साथ प्राथमिक, माध्यमिक, उच्चतर माध्यमिक विद्यालयों में जैसे ही धरपकड़ करने के से अंदाज में पहुँचते हैं शिक्षकों के मुख ऐसे हो जाते हैं मानो घर से चार पनही खाकर आये हैं. सचिव कार्बन डाइ ऑक्साइड बाद में विसर्जित करते हैं, शैक्षणिक गतिविधियों, गणवेश, पाठ्य पुस्तक का वितरण, नव प्रवेशी विद्यार्थियों, मध्यान्ह भोजन, विद्यार्थी-शिक्षक उपस्थिति जैसे अनवार्य शिक्षा अधिनियम की जानकारी पहले लेते हैं. जानते हैं अधिकतर विद्यालय घपलेबाजी में लिप्त हैं फिर भी वे घपलेबाजी पर भ्रमित हो जाते हैं. भ्रम में डूब कर एक साथ कई प्रश्न पूछते हैं - विद्यालयों में शैक्षणिक अराजकता क्यों बढ़ती जा रही है? दो माह से विद्यार्थियों की हाजिरी दर्ज क्यों नहीं की गई? मासिक मूल्यांकन क्यों नहीं हुआ? जुलाई माह का रजिस्टर क्यों नहीं है? कादौं-कीचड़ भरे गाँवों में अपनी युवावस्था को गारद कर रहे गुरुजन ऐसे गरिष्ठ प्रश्नों को सुनकर साइलेन्ट मोड में चले जाते हैं. उनकी बहकी-बहकी नजर सचिव पर टिकी होती है - धमका ऐसे रहे हैं मानो शिक्षा जगत के घपले खत्म करके ही सेवानिवृत्त होंगे.

तूफानी दौरे पहले भी हुए हैं पर उन विद्यालयों में हुए हैं जहाँ हुक्मरानों के वाहन निर्बाध चले जाते हैं. दौरे के वक्त कादौं-कीचड़ जैसे पथ वाले विद्यालयों के गुरुजनों को असुविधाओं में फायदा नजर आने लगता है क्योंकि कादौं-कीचड़ में हुक्मराम अपने बूट खराब करने नहीं आएंगे. यदि आएंगे बूट पंक में पंकगत हो जाएंगे. पर अंधेर इसी धरा पर घटित होता है. अंधेर ने घटित होने के लिये ग्राम पंचायत नागौर की शासकीय शाला को चुना. प्रभारी सचिव के साथ दो वाहनों में आसीन होकर जिलाधीश, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत, एस.डी.एम. आरोही चतुर्वेदी, जिला शिक्षा अधिकारी, सर्वशिक्षा अभियान के अधिकारी-कर्मचारी आदि सम्भ्रान्त सा समूह बनाकर नागौर की जानिब चले. कीचड़, खर-पतवार, बेशरम की झाड़ियों जैसी पग बाधा को ध्यान में रखते हुए वाहनों ने विद्यालय तक जाने में असमर्थता निवेदित कर दी. समूह को विद्यालय से कम से कम आधा किलो मीटर की दूरी पर वाहनों का त्याग करना पड़ा. विवेक जागृत न होता था किस विध शाला तक पहुँचे. ’हम होंगे कामयाब’ जैसे प्रेरक गीत पर आस्था रखते हुए समूह शाला की ओर बढ़ चला. सचिव हाथ फटकारते हुए इस तेजी से चल रहे थे जैसे जाहिर करना चाहते हों जो उनके हाथों की जद में आयेगा भूलुंठित होकर रहेगा. उनके द्रुत पद चिन्हों का अनुसरण करने में समूह को डकारें आ रही थीं. किसी तरह शाला पहुँचे. घुटनों तक खड़ी घास बताती थी यहाँ दिनों से चहलकदमी नहीं हुई है. शाला के प्रवेश द्वार पर मुस्तैद ताले ने पुष्टि कर दी. सचिव उचक गये –

‘‘यह स्कूल बंद कर दिया गया है क्या?’’

डी.ई.ओ. ने सूचित किया ‘‘अस्तित्व में है सर.’’

‘‘उफ.’’

सचिव के मुख से उफ अलग किस्म से निकलता है. उनका मोटा मुख वैसे भी सुडौल नहीं है. उफ उच्चारते हुए पूरी तरह बेडौल हो जाता है. वे दूर तक देखने लगे. जैसे शाला के अस्तित्व में होने का सत्यापन करना चाहते हों. शाला के पीछे वाले खेत में एक किसान काम कर रहा था. डी.ई.ओ. ने उसे संकेत से बुलाया. वह इस तत्परता से आया मानो एक सदी से चाह रहा था उसे संकेत से बुलाया जाये. उसकी तम्बाकू-सिक्त खुली बत्तीसी बताती थी समूह को देखना उसे भला लग रहा है. सचिव मुख्य वक्ता हैं. बाकी लोग जरूरत मुताबिक बोलते हैं. सचिव ने किसान से पूछा -

‘‘स्कूल क्यों बंद है?’’

‘‘कबहूं-कबहूं खुलता है.’’

‘‘विद्यार्थी नहीं आते?’’

‘‘सिरिफ एक विद्यार्थी है.’’

‘‘एक?’’

‘‘हौ.’’

‘‘स्कूल नहीं आता?’’

‘‘कबहूं-कबहूं आता है. गुरूजी सेंत-मेंत (बिना पढ़े) में पास कर देते हैं.’’

‘‘किस क्लास में पढ़ता है?’’

‘‘नहीं जानते.’’

‘‘शिक्षक कितने हैं?’’

‘‘चार-पाँच हैं.’’

‘‘चार-पाँच?’’

‘‘हौ.’’

‘‘स्कूल आते हैं?’’

‘‘कबहूं-कबहूं हॅंसी-ठट्टा करने आते हैं.’’

सचिव ने जिलाधीश को खतावार की तरह देखा. जिलाधीश का दैदीप्यमान गेहुंआ मुख निर्जल हो गया. नहीं सोचा था जिस जनपद का सौन्दर्यीकरण कराने के लिये लालायित हैं वहाँ के शिक्षा के मंदिरों की स्थिति इतनी कमजोर होगी. जिलाधीश की ओर से मुख फेर कर सचिव ने डी.ई.ओ. को मानसिक प्रताड़ना दी –

‘‘यह क्या है? जानते हैं न आर.टी.ई. के नियम के अनुसार जिन प्राथमिक शालाओं में चालीस से कम, माध्यमिक शालाओं में बारह से कम विद्यार्थी हों उन शालाओं का युक्तियुक्तकरण कर उन्हें ऐसी बसाहटों में संचालित करना है जहाँ विद्यार्थी संख्या अधिक हो?’’

डी.ई.ओ. ने अपनी प्रलम्ब-पतली देह को खींच कर सक्रिय किया -

‘‘जी सर. कुछ विद्यालयों में विद्यार्थी संख्या मापदण्ड से कम है. जब से आर.टी.ई. के अन्तर्गत निजी विद्यालयों में पच्चीस प्रतिशत सीट गरीब परिवार के विद्यार्थियों के लिये आरक्षित हुई है जनपद से लगे गाँवों के विद्यार्थी उन विद्यालयों में पढ़ने लगे हैं. इसलिये यहाँ एक विद्यार्थी ...”

सचिव को स्पष्टीकरण अक्षमता छिपाने की तरह लगा.

‘‘आपकी लापरवाही साफ दिख रही है. पिछले शैक्षणिक सत्र में नवाचार के अन्तर्गत इस जनपद में माध्यमिक स्तर के सरकारी अंग्रेजी माध्यम स्कूल खोले गये हैं. मुझे बताया गया वहाँ अब भी हिंदी माध्यम से पढ़ाया जाता है. साल भर बाद भी आप अंग्रेजी माध्यम के शिक्षकों का प्रबंध नहीं कर सके.’’

डी.ई.ओ. की इच्छा हुई कहें - तो आप मानते हैं हिंदी और हिंदी दिवस में कुछ नहीं रखा? शिक्षा का योगक्षेम अंग्रेजी से होगा? मंद स्वर में बोले -

‘‘इस सिलसिले में मीटिंग हुई है. सभी संकुल प्राचार्यों को नोटिस देकर अंग्रेजी माध्यम के शिक्षकों का ब्योरा माँगा गया है. जल्दी ही समस्या का हल निकाल लिया जायेगा.”

‘‘उफ.’’

समूह न समझ पाया इस उफ में थकान है या खिन्नता. रवैया किसान की समझ में नहीं आ रहा था अलबत्ता बत्तीसी निपोरे हुए वह समूह को तब तक आदर से देखता रहा जब तक समूह रुखसत न हो गया.

पगबाधाओं में पग धरते हुए सचिव जब वाहन में आसीन हुए, एक बार फिर उफ कहा. उन्हें जनपद के विकासखण्ड सोहावल के छोटे गाँव बूटी की प्राथमिक शाला पहुँचना है. बूटी की शाला की रूपरेखा जर्जर है. काफी लम्बाई वाला आयाताकार एक जर्जर कक्ष है जिसे भवन कहा जाता है. भवन में खिड़की बनाना मिस्त्री भूल गया है. दो द्वार हैं जिनके पल्ले कोई जरूरतमंद चुरा ले गया है. शिक्षकों के लिये मेज-कुर्सी नहीं है वरना वह भी जरूरतमंदों के काम आती. शिक्षकों को वसुन्धरा की गोद में बैठने पर अवनति का बोध होता है पर वे निहत्थे हैं. विद्यार्थी बैठने के लिये घर से बोरी-फट्टा लाते हैं. पल्ले न होने का समाचार मवेशियों को ज्ञात है. वर्षा से बचने के लिये वे भवन में घुस आते हैं. गोबर से वायुमण्डल शुद्ध करते हैं. दीवारों की दरारों में साँप-बिच्छू का वास है. बिच्छू अब तक चार विद्यार्थियों को डंक मार चुके हैं. दो विद्यार्थी बच गये. दो को बचाया नहीं जा सका. शिक्षकों ने इन विषैले जीवों को पनाह नहीं दी है पर मृत विद्यार्थियों के अभिभावकों को लगता था बिच्छू ने शिक्षकों की शह पर डंक मारा है. उन्होंने शाला आकर खूब उपद्रव किया. विद्यार्थियों की मृत्यु पर शोक सभा कर छुट्टी कर दी गयी जिसका असर विद्यार्थियों पर नहीं देखा गया. विद्यार्थी छुट्टी के इतने आदी हैं कि उन्हें आकस्मिक छुट्टी का इंतजार नहीं रहता. वे बूँदे पड़ते ही समझ जाते हैं आज स्कूल नहीं लगेगा. घर से ठीक वक्त पर निकल कर एक स्थान में जमा होकर गुल्ली-डंडा का अभ्यास करने लगते हैं. इस जनपद में कई पाठशालाएं हैं जहाँ बादल तय करते हैं आज स्कूल लगेगा अथवा नहीं. बूटी की शाला में कुल जमा दो शिक्षक हैं. दोनों में गजब की मिलीभगत है. बारी-बारी से शाला आते हैं. एहतियात के तौर पर दोनों अपनी-अपनी एप्लीकेशन स्थाई रूप से रखे गये आवेदन मुलाजिमान रजिस्टर के साथ रख देते हैं. आज तक जरूरत नहीं पड़ी लेकिन पड़ जाये तो मौजूद शिक्षक प्रार्थना पत्र दिखा सकता है कि अनुपस्थित शिक्षक पाबंद हैं. आज ही अनुपस्थित हुए हैं.

वाहन को मुख्य पथ के आसरे छोड़ कर समूह अपने बूट खराब करता हुआ पाठशाला पहुँचा. सचिव के भाल पर पसीना है -

‘‘कीचड़, खर-पतवार के बिना एक भी स्कूल नहीं है क्यों?’’

जिलाधीश ने सचिव को कनखी से देखा - आप पर कर्तव्य सवार है. बुद्धिमान होते तो कागज में दौरे दर्शा कर जनपद के धार्मिक स्थलों के दर्शन कर मोद और मोदक हासिल करते.

सचिव ने भाल का पसीना पोंछते हुए देखा चार छात्राएं भवन के बाहर झाड़ू लगा रही हैं. छात्राएं इतनी अज्ञानी थीं कि समूह का वहाँ होना उन्हें अनोखी बात नहीं लगी. वे अपने काम में मुब्तिला रहीं. समूह भवन में दाखिल हुआ. कक्षा से गोबर हटा दिया गया था. बास को नहीं हटाया जा सकता था. खिड़की होती तो फरर-फरर आती ताजी हवा बास को अपदस्थ कर सकती थी. गोबर की तीक्ष्ण गंध ने समूह की घ्राण शक्ति को किस कदर चुनौती दी है यह जेब से निकल कर नासिका पर लिपट गये उजले रूमालों से ज्ञात होता था. दीवार से पीठ टिका कर शिक्षक फुरसतहे अंदाज में झपक रहा था. दस-पन्द्रह विद्यार्थी मौजूद थे जो अपनी जगह पर नहीं थे. शिक्षक की मीठी नींद सचिव से न सही गई -

‘‘पंचनामा बनाइये.’’

सचिव की टंकार भरी आवाज से शिक्षक समझ गया निरीक्षण की जद में आ गया है. हा देव. ये कौन बुद्धिमान हैं जो बूट खराब करने चले आये हैं? वह उछल कर खड़ा हो गया. स्थिति इतनी आकस्मिक थी कि उसकी रसना तालू से चिपक गई. जोर लगाने पर मुख से ऐसी महीन वाणी निकली जैसे महीन छिद्र से वायु धीरे-धीरे निकल रही हो. उसने भरपूर झुकते हुए सभी का अभिवादन किया ‘‘नमस्कार सर ... नमस्कार सर ... नमस्कार सर ...’’

नींद ले रहे शिक्षक को देख कर सचिव भूल गये इस देश में गुरुवै नमः का प्रताप रहा है. गुरु का आदर करना चाहिये. वे आदर क्या करते? शिक्षक के अभिवादन तक का जवाब नहीं दिया. शिक्षक ने सचिव की हरकत का बिल्कुल बुरा नहीं माना. दोनों हाथों को लहरा कर मौजूद विद्यार्थियों को खड़े होने का संकेत देने लगा. अर्थ ग्रहण कर विद्यार्थी खड़े हो गये. सचिव ने करबद्ध खड़े शिक्षक से सीधे संवाद स्थापित किया -

‘‘यहाँ कितने शिक्षक पदस्थ हैं?’’

‘‘सर, दो.’’

‘‘एक आप?’’

‘‘जी.’’

‘‘दूसरे?’’

‘‘आज छुट्टी पर हैं. एप्लीकेशन भेजी है.’’

‘‘उफ. मैं जहाँ भी जाता हूँ शिक्षक छुट्टी पर होते हैं. आप लोग इतनी छुट्टी क्यों लेते हैं?’’

शिक्षक की मासूमियत ‘‘अपरिहार्य कारणों से.’’

‘‘कितने विद्यार्थी हैं?’’

‘‘छात्र पचास, छात्राएं इक्कीस.’’

‘‘बहुत कम दिख रहे हैं.’’

‘‘निवेदन करता हूँ, नहीं आते.’’

‘‘प्राथमिक शाला है?’’

‘‘जी.’’

‘‘पाँच कक्षाओं को दो शिक्षक कैसे पढ़ाते हैं?’’

‘‘इसी भवन में. कक्षा के अनुसार पाँच कतारें बनती हैं.’’

‘‘यह कैसे सम्भव है? संबंधित विभाग को सूचित किया?’’

शिक्षक समझ गया आक्षेप उस पर नहीं विभाग पर आ रहा है. उसका स्वर तंत्र इस तरह खुल गया जैसे एक वही काबिल है -

‘‘जी सर. विभागीय अधिकारियों और क्षेत्र के जन प्रतिनिधियों से निवेदन किया है. विधायक, सरपंच और भी साहबों को बताया पर कुछ नहीं हुआ. शौचालय नहीं है. पानी नहीं है. पन्द्रह अगस्त और छब्बीस जनवरी को हम दोनों शिक्षक चंदा कर बच्चों को बूँदी बाँटते हैं.’’

‘‘बहुत लापरवाही है.’’

सचिव की भंगिमा से ज्ञात न हुआ लापरवाही शिक्षक की है अथवा समूह की. शिक्षक कातरता बताता रहा -

‘‘बह