'बृजलोक अकादमी' का सम्मान समारोह सम्पन्न

 

गॉव रिहावली - आगरा | गुरूपूर्णिमा के पावनपर्व पर बृजलोक साहित्य-कला-संस्कृति अकादमी ने के. जी. पब्लिक स्कूल, ग्राम रिहावली के सभागार में विभिन्न क्षेत्रों के विद्वानों का सम्मान किया |

          इसके साथ ही छात्र - छात्राओं को ऋषि वैदिक साहित्य पुस्तकालय की तरफ से सत् साहित्य पूर्णतः नि:शुल्क भेंट किया गया | अच्छी - अच्छी पुस्तकें व पत्र - पत्रिकायें प्राप्त करके छात्र - छात्राओं के चेहरे खिल गये |

           संस्था / अकादमी अध्यक्ष - मुकेश कुमार ऋषि वर्मा ने अपने शैक्षिक गुरू श्री मुरारी लाल वर्मा जी का सम्मान किया | अकादमी परिवार की तरफ से उन्हें "शिक्षक श्री सम्मान" सैकड़ों विद्यार्थीओं के बीच में प्रदान किया एवं काव्य पुस्तिका - 'संघर्ष पथ' सहर्ष भेंट की गई |

            इनके अलावा देशभर के तमाम महानुभावों को उनकी निस्वार्थभाव से की गई सेवा जैसे - साहित्य, सम्पादन-प्रकाशन, कला, संगीत, फिल्म, समाज - राष्ट्र सेवा हेतु अलग - अलग सम्मानोपाधियां प्रदान की गईं | जिनमें प्रमुख हैं ,सम्पादक - श्री निर्मेश त्यागी,  विजय वर्मा, कुंवर प्रताप सिंह सिसोदिया, मु. इजहार अशरफ | साहित्यकार - श्रीमती बसंती पंवार, विशाल शुक्ला | फिल्म व समाजसेवा- श्री रामसूरत बिंद, राजशेखर साहनी, ओमप्रकाश ओम आदि |

               कार्यक्रम में उपस्थित महानुभाव - प्रबन्धक डा. होतम सिंह कौशेडिया, प्रधानाचार्य रामनरेश वर्मा, अध्यापक राहुल परिहार ( कार्यकारी अध्यक्ष - बृजलोक अकादमी), ओमप्रकाश वर्मा आदि |

                 ग्रामीणक्षेत्र में सत् साहित्य, कला, संस्कृति, मातृ - राष्ट्र भाषाहिन्दी को समृध्द करने के लिए "बृजलोक अकादमी" समय - समय पर ऐसे सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन शुरू से ही करती आ रही है | ग्रामीणक्षेत्र जो शिक्षा - साहित्य - कला से अभी भी पिछड़े हुये हैं | वहॉ इस तरह के कार्यक्रमों का आयोजन अपने आप में एक बहुत बड़ी उपलब्धि है | 

                 कुलमिलाकर यह कार्यक्रम पूर्णतः सफल रहा....! 

 

 

 

प्रस्तुति - मुकेश कुमार ऋषि वर्मा

 

डॉ कौशल किशोर श्रीवास्तव

171 विष्णु नगर परासिया मार्ग

छिंदवाड़ा (मध्यप्रदेश)

मोबाइल 09424636145

vishalshuklaom@gmail.com

 

Share on Facebook
Share on Twitter
Please reload

eKalpana literary magazine

​​Contact & Social Media -

ekalpanasubmit@gmail.com

सभी रचनाएं
ekalpanasubmit@gmail.com पर भेजें
Please reload

Please reload

 

... ON BORROWING a BOOK VS BUYING IT

""When you buy it, you are promoting the literature of your country.""

ई-मेल में सूचनाएं, पत्रिका व कहानी पाने के लिये सब्स्क्राइब करें (यह निःशुल्क है)