... ON BORROWING a BOOK VS BUYING IT

""When you buy it, you are promoting the literature of your country.""

पुस्तक - काव्यदीप का हुआ विमोचन

 आगरा | सॉल्ट एण्ड पेपर रेस्टोरेन्ट (आगरा) में मुकेश कुमार ऋषि वर्मा द्वारा रचित तीसरी काव्य पुस्तक - काव्यदीप का विमोचन शशि स्वरुप, एकता जैन, डॉ. शशीपाल वर्मा, अवधेश कुमार निषाद, राकेश वर्मा, मोहर सिंह आदि साहित्य - कला जगत से जुड़े प्रतिष्ठित महानुभावों के करकमलों से किया गया |

 

 

 

 

‘काव्य दीप’ रवीना प्रकाशन - दिल्ली से मुद्रित / प्रकाशित हुई है एवं इसके प्रकाशन में मुख्य भूमिका निभाई है मशहूर समाज सेवी एवं फिल्म निर्माता श्री राम सूरत बिंद जी ने, वहीं मुख्य सहयोगी विजय कुमार वर्मा हैं | सुंदर मुखपृष्ठ, उच्चक्वालिटी का कागज व स्वच्छ छपाई सहित लघु काव्य रचनाओं से सुसज्जित काव्य पुस्तक - काव्यदीप पठनीय व संग्रहणीय है | आपको बतादें कि पुस्तक के आवरण को स्वयं रचनाकार मुकेश कुमार ऋषि वर्मा ने ही अपनी पेंटिंग से डिजाइन किया है | 

 

 

छात्र जीवन के समय में रचित रचनाओं का यह अदभुत काव्य संग्रह है | कमी बस एक ही है कि कुछ रचनाओं में प्रूफ रीडिंग अथवा कम्प्यूटर टाइपिंग की त्रुटि रह गई है | अगर उन्हें नजर अंदाज कर दिया जाये तो शुद्ध-सरल काव्य रचनाओं का काव्य रस हृदय की गहराइयों में सहज अनुभव किया जा सकता है | कुलमिलाकर काव्यदीप बहुत ही सुंदर पुस्तक है और विमोचन कार्यक्रम पूर्णतः सफल रहा|

 

 

 

प्रस्तुति :- प्रधान सचिव 

बृजलोक अकादमी

Share on Facebook
Share on Twitter
Please reload

Archive
Please reload

Search By Tags
Please reload

Follow Us
  • Facebook Basic Square
  • Twitter Basic Square
  • Google+ Basic Square